इसके जवाब को हम लोग अलग-अलग चरणों से समझने का प्रयास करते हैं

सुरक्षा की जरूरत अलग-अलग चरणों पर पड़ती है इसलिए इसके जवाब को हम लोग अलग-अलग चरणों से समझने का प्रयास करते हैं
जब आप वेबसाइट के सबसे ऊपर में जाएंगे तब एक ताले का निशान दिखेगा जिसके माध्यम से गूगल यह तय करता है यह वेबसाइट कितना सुरक्षित है जब वहां पर हम माउस ले जाएंगे तो एक मैसेज आएगा जिसमें लिखा होगा कि “इसमें आप अपना फोन नंबर पासवर्ड यहां तक कि क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड आदि के नंबर भी डाल सकते हैं। वेबसाइट पूर्णतः सुरक्षित है”

इसमें आप देश विदेश के मौजूद लगभग किसी भी माध्यम से ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं। जिसके माध्यम से सभी बैंक आप को आश्वस्त करते हैं कि आप सुरक्षित हैं।

क्योंकि इस वेबसाइट को पूरे भारतवर्ष के अग्रवाल समाज के प्रयोग के हिसाब से तैयार की गई है इसलिए सुरक्षा जैसी बातों का सबसे अधिक ध्यान रखा गया है इसके उदाहरण आपको वेबसाइट के विभिन्न पन्नों पर देखने को मिलेगा जैसे
1 . यदि आप लॉगिन नहीं करेंगे तो पेज के सबसे ऊपर हेल्प और लॉगिन का बटन दिखेगा लेकिन लोगिन करने के बाद यह गायब हो जाएगा।
2 . प्रैक्टिकल रूप से इस उदाहरण को समझने के लिए आप ऊपर के हेल्प के बटन को दबाएं और हेल्प के पन्ने पर सबसे नीचे परिवार के रजिस्ट्रेशन वाले बटन को दबाएं। लॉगिन नहीं रहने पर आपको वह फॉर्म नहीं दिखेगा बल्कि रजिस्टर होने का एक बटन दिखेगा। लोग वहां परिवार की जानकारियों को डालने संबंधी फॉर्म दिखने लग जाएगा। दरअसल इस पूरे वेबसाइट को अथवा किसी खास पन्ने को, पन्ने के किसी खास हिस्से को अलग-अलग यूजर राइट्स से छुपाया / दिखाया जा सकता है जैसे की हम बैंकों के सॉफ्टवेयर में देखते हैं।

Scroll to Top