q/a

Question / Answer(AGRAWAL18)

आदरणीय महाशय सबसे पहले तो मैं आपको धन्यवाद देना चाहता हूं, आपने समाज हित में वेबसाइट के माध्यम से एक बहुत ही अच्छा समाधान दिया है। लेकिन मुझे लगता है………..

Q1) अभी सामाजिक समस्याओं का समाधान व्हाट्सएप ग्रुप आदि के माध्यम से कर सकते हैं। लेकिन कई लोग अपने बातचीत या विचारों को इंग्लिश भाषा में लिखते हैं, जो कईयों के लिए समस्या का कारण बनता है तो क्या इसका बेहतर समाधान आपका वेबसाइट दे सकता है।

A1) महाशय यह समस्या हमारी प्राथमिकताओं में सबसे ऊपर है। आपकी सुविधा के लिए ऐसी व्यवस्था की गई है की उसी स्थान पर मौजूद एक बटन को दबाते ही तमाम लेख़ आपकी भाषा में आ जाएगी। आने वाले समय में इसे और बेहतर करने की दिशा में हम काम कर रहे हैं।

Q2) मुझे लगता है यह एक खर्चीला प्रोजेक्ट है। यदि सामाजिक हित में किए जाने वाले इस प्रयास में आर्थिक सहयोग करना चाहूं तो,क्या यह संभव है?

A2) जी हां! आप इस प्रोजेक्ट में ना सिर्फ अपने नाम पर बल्कि अपने पूर्वजों के याद में भी हमें सहयोग भेज सकते हैं। और हम ऐसा प्रयास करेंगे कि आपका अथवा आपके पूर्वजों के नाम,फोटो संदेश आदि को इस वेबसाइट के विभिन्न पन्नों पर दिखा सके।

Q3(a) महाशय मैंने आपके द्वारा डाली गई समाज की जानकारियों को देखा और पाया कि अधिकांश लोगों के नाम नंबर या तो गलत है या तो पुराने हैं या जानकारी बहुत हो थोड़ी डाली गई है।

Q3(b) महाशय मैं समझ सकता हूं कि पूरे समाज की जानकारियों को डालने में बहुत दिक्कत आ रही होगी मुझे लगता है आपको समाज के केंद्रीय समिति को लिखित आवेदन देकर समाज की जानकारी लेनी लेने चाहिए और अपने वेबसाइट पर डाली चाहिए।

Q3(C) महाशय वेबसाइट को बहुत अच्छे से तैयार किया गया है ऐसा मैं मानता हूं परंतु इसे समाज के बाहर के लोग भी खोल सकते हैं और देख भी सकते हैं मेरा सुझाव है की इसमें ऐसी व्यवस्था की जाए कि इसे समाज के लोग ही देख सके और प्रयोग कर सकें।

Q3(D) महाशय क्या ऐसा संभव है कि अलग-अलग क्षेत्र के लड़कों को आपसे जोड़ दिया जाए तो समाज के प्रत्येक परिवार की जानकारी डल सकेंगे। यानि वह उस क्षेत्र के प्रतिनिधि के रूप में काम कर सकेंगे तो संभव है, और यदि हां! तो इसकी प्रक्रिया क्या है।

Q3(E) महाशय मुझे लगता है कि सामाजिक डिस्कशन के लिए व्हाट्सएप फेसबुक से बेहतर कुछ नहीं हो सकता और हम सभी ग्रुप बनाकर समस्याओं का समाधान भी कर लेते हैं, तो फिर वेबसाइट में डिस्कशन का पेज क्यों बनाया गया है।

A3((E) महाशय मैं भी मानता हुँ की व्हाट्सएप फेसबुक से बेहतर विकल्प कुछ नहीं हो सकता। लेकिन इस विभाग को समाज के कुछ विशेष लोगो के आग्रह पर बनाया गया है। जो चाहते थे कि एक ऐसी व्यवस्था हो जिसमें हर विषय पर अलग-अलग बातचित या वाद-विवाद हो सके और उसे व्हाट्सएप के 256 लोगों के वजाय पूरा समाज देख सके या उस पर अपना विचार दे सके। अपने पसंद के विषय के क्षेत्र में जा सके और उस वाद-विवाद को आप सुरक्षित रखा जा सके और इन जानकारियों का लाभ लिया जा सके। समाज के उन विशेष लोगों को लगता है कि व्हाट्सएप फेसबुक में इस तरह की सुविधा उपलब्ध नहीं है।

Q4) महाशय आपके वेबसाइट में अपने परिवार की जानकारी डालने के लिए आपसे मिलना अनिवार्य होता है और व्हाट्सएप आदि के माध्यम से फोटो या अन्य जानकारी भेजनी होती है तो मुझे लगता है पूरे समाज की जानकारी डालने में काफी परेशानी आएगी और यह संभव भी नहीं है।

A4) महाशय मैं क्षमा प्रार्थी हूं परंतु मुझे लगता है कि आपने वेबसाइट के पुराने संस्करण को देखा है उन समस्याओं को देख कर ही विगत कुछ वर्ष में सुधार करने में लगा है। अब कुछ ऐसी व्यवस्था की गई है जिसमें हर व्यक्ति अपने परिवार की जानकारी स्वयं डाल सकेगा और अपनी इच्छा अनुसार फेरबदल कर सकेगा।

Q5) महाशय इसमें रजिस्टर करने के लिए ईमेल और पासवर्ड डालना पड़ता है जिसमें ईमेल और पासवर्ड दोनों ही लोग भूल सकते हैं। क्या इसके कोई बेहतर समाधान संभव है?

A5) महाशय इस डेटा का संबंध सामाजिक सुरक्षा से है और सुरक्षा से लेकर हमेशा कई सवाल उठाए गए हैं इसलिए हमारी यह जिम्मेदारी हो गई थी कि इसमें सुरक्षा के सर्वोत्तम उपाय कि जाएं। इसमें ऐसी व्यवस्था की गई है कि आप यूजरनेम के बजाय फोन नंबर डाल सके और पासवर्ड के भूल जाने की स्थिति में ओटीपी के माध्यम से लॉगिन की जाए। यह व्यवस्था संभवत: सबसे आसान और सबसे सुरक्षित हो सकता है ईमेल को अनिवार्य इसलिए किया गया है कि किसी कारणवश आपका फोन नंबर भुला जाए या आपके पास फोन नंबर ना हो तभी आप ईमेल पर अपना पासवर्ड मंगा सके अथवा ओटीपी के बजाय पासवर्ड डालकर लॉगइन कर सके।

Q6) महाशय मेरे पास बहुत से ऐसे लेख व कविताएं आदि है जिसे मैं अपने नाम व फोटो के साथ इस वेबसाइट में डालना चाहता हूं जिसे लोग पढ़े और हमारे विचारों को जान सके क्या ऐसा संभव है?

A6) जी हां! आपके सुविधाओं को ध्यान में रखकर लेख़ का एक अलग सेक्शन तैयार किया गया है जिसमें आप बहुत ही आसान तरीके से प्रयोग कर सकेंगे और अपने पसंद के कैटेगरी में नाम फोटो के साथ अपने लेख डाल सकेंगे। इसमें यह सुविधा भी है की आपके लेख आदि पर लोग अपनी प्रतिक्रिया भी दे सकते हैं।

visitor counter
Scroll to Top