Poem कविता

“तीन पहर”

तीन पहर तो बीत गये,बस एक पहर ही बाकी है।जीवन हाथों से फिसल गया,बस खाली मुट्ठी बाकी है।सब कुछ पाया इस जीवन में,फिर भी इच्छाएं बाकी हैं।दुनिया से हमने क्या पाया,यह लेखा जोखा बहुत हुआ,इस जग ने हमसे क्या पाया,बस यह गणनाएं बाकी हैं।तीन पहर तो बीत गये,बस एक पहर ही बाकी है।जीवन हाथों से …

“तीन पहर” Read More »

धधकती ज्वाला

यह कविता “समाज के एक व्यक्ति के द्वारा  “ जो  बलांगीर के निवासी हैं, के द्वारा रचित है।  भरत भूमि की पुण्य धरा परसंकट है गहराया ।गलवान में आकर चीन खड़ा हैओर सारे भारत में पड़ रही कोरोनाकी छाया ।। पर भारत धधकती ज्वाला हैइस ज्वाला में ये दोनों भस्म हो जाएंगे ।अपने बीस वीर शहीदों …

धधकती ज्वाला Read More »

अग्रवंश के वीर सपूतों

यह कविता “नारनौलिय अग्रवाल समाज के एक व्यक्ति के द्वारा रचित है।  “ बन्धु आज कुछ बात करेंबातें हम मिलकर साथ करेंआओ कुछ संकल्प करेंकुछ और नया इतिहास गढ़ें ।। तुम अग्रसेन के वंशज होअग्र हीं नहीं तुम अग्रज हो ।अग्र योद्धा तुम अग्र वीरअग्रसेन के सुत प्रवीर । कुछ करके तुम्हें दिखाना हैआगे हीं …

अग्रवंश के वीर सपूतों Read More »

सावन का महीना

यह कविता “नारनौलिय अग्रवाल समाज के एक व्यक्ति के द्वारा रचित है।” सावन का महीना आया है , क्याशंभु तीसरा नेत्र अब खोलेंगे ।सीमा पर चीन जो आकर बैठा हैभस्म उसे अब कर देंगे ।। नापाक पाक की गर्दन मरोड़पटखनी उसे हम दे देंगे ।इमरान जीनपिंग की जोड़ी कोअब नहीं हम छोड़ेंगे ।। करके धुआंधार …

सावन का महीना Read More »

visitor counter
Scroll to Top